बागेश्वर:अमसरकोट गांव में प्राचीन नौले के संरक्षण के लिए ग्रामीणों की मुहीम,सड़क चौड़ीकरण के मध्य आ रहे प्राचीन नौले को बचाने की शासन प्रशासन से मांग

ख़बर शेयर करें

बागेश्वर:प्रदेश सरकार द्वारा जहां एक ओर प्राकृतिक पेयजल श्रोतों को बचाने के लिए युद्ध स्तर पर मुहीम चलाई जा रही है वहीं विकास के इस दौर में कई नौले ,धारे पेयजल श्रोत भी आ रहे है इसी तरह का मामला है बागेश्वर मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूर अम्सरकोट गांव का यहां भी पीडब्ल्यूडी की सड़क चौड़ीकरण की रेंज में ऐसा ही एक पारंपरिक नौला आ रहा है जोकि बीते कई दशकों से ग्रामीणों की प्यास बुझा रहा है ,जिसे बचाने के लिए यहां के ग्रामीणों ने संकल्प लिया है जिसको लेकर ग्रामीणों ने बीते 11नवंबर को जिलाधिकारी को ज्ञापन भी दिया है।वही ग्रामीणों का कहना है कि इस पुराने नौले के जीर्णोधार के लिए सीएम के दौरे के दौरान कैबिनेट मंत्री चंदन राम दास को आर्थिक मदद के लिए ज्ञापन भी दिया गया था ।वही ग्रामीणों की मांग है कि इस प्राचीन नौले के संरक्षण के लिए उचित कार्यवाही की जाए ताकि इस प्राकृतिक नौले को बचाया जा सके और भावी पीढ़ी इस प्राचीन नौले के शुद्ध जल का लाभ उठा सके।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर के गरूड़ क्षेत्र में पहले महिला और कुछ और दूरी में बच्चे का शव मिलने से क्षेत्र में सनसनी
Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments