बागेश्वर:किशोर की मौत के बाद जिला चिकित्सालय में हंगामा तोड़फोड़

ख़बर शेयर करें

बागेश्वर:बीते रोज जहरीले पदार्थ का सेवन करने वाले किशोर की जिला अस्पताल में उपचार के दौरान मौत होने के बाद नाराज तीमारदारों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान अस्पताल के वार्ड में लगे उपकरणों से तोड़फोड़ भी गई। तीमारदारों की तोड़फोड़ सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हो गई। अस्पताल प्रशासन की ओर से पुलिस में तीमारदारों की शिकायत दर्ज कराई गई है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।मिली जानकारी के अनुसार जिला मुख्यालय के समीपवर्ती गांव के एक किशोर ने घर में किसी बात को लेकर जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया। तबीयत ‌बिगड़ने पर शुक्रवार की रात को परिजन उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल लेकर आए। इमरजेंसी में तैनात ‌चिकित्सक के सूचना देने पर ‌फिजीशियन डॉ. चंद्रमोहन भैसोड़ा ने अस्पताल आकर किशोर की जांच की और हालत गंभीर देेखते हुए उसे हायर सेंटर रेफर करने को कहा। हालांकि परिजन किशोर का जिला अस्पताल में ही उपचार कराने की बात करते रहे। इस बीच किशोर की हालत बिगड़ती गई और रात के करीब तीन बजे किशोर ने दम तोड़ दिया। किशोर की मौत होने के बाद उसके साथ आए तीमारदारों ने जिला अस्पताल के वार्ड में शोरगुल मचाते हुए तोड़फोड़ शुरु कर दी और एक मल्टी मॉनिटर, एक ऑक्सीजन कंसनटेटर, एक ऑक्सीजन सिलिंडर को क्षतिग्रस्त कर दिया। यह सारा वाकया सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया।हंगामे के दौरान छह से सात मरीज भी वार्ड में भर्ती थे, जिन्हें हंगामे के कारण काफी परेशानी और दहशत के माहौल का सामना करना पड़ा। शनिवार को सीएमएस की ओर से कोतवाली में मामले की शिकायत दर्ज कराई गई। इधर कोतवाल कैलाश सिंह नेगी ने कहा कि अस्पताल प्रशासन ने अज्ञात तीमारदारों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जांच के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।
जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. वीके टम्टा का कहना है कि किशोर ने जहरीला पदार्थ खाया था। चिकित्सक के अनुसार उसकी हालत बेहद चिंताजनक थी, जिसे देखते हुए उसे रेफर करना जरुरी था। इस बीच जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव ने मुझे फोन कर किशोर को रेफर करने की बजाय यहीं उपचार करने को कहा। मजबूरन चिकित्सक उसका यहीं इलाज करने लगे और किशोर की मौत हो गई। उसकी मौत होने के बाद तीमारदारों ने पूरे अस्पताल की शांति भंग कर दी। एक ओर तोड़फोड़ की गई और दूसरी ओर अस्पताल में भर्ती मरीजों को भी दहशत में डाल दिया। तोड़फोड़ में एक लाख रुपये से अधिक का नुकसान हुआ है।

शिवराज सिंह राणा, पुलिस उपाधीक्षक बागेश्वर।
जिला अस्पताल में किशोर के जहरीला पदार्थ गटकने के बाद तोड़फोड़ करने का मामला संज्ञान में है। अस्पताल प्रशासन की शिकायत के आधार पर मामले में जांच और कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः (Big News)- पहाड़ के इस विद्यालय में हो गए थे 22 छात्र अचानक बीमार, और फिर...

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments