हल्द्वानी:दिनांक 18 अक्टूबर 2022 को एक भारत श्रेष्ठ भारत के अंतर्गत एक संगोष्ठी का किया गयाआयोजन

ख़बर शेयर करें

इंदिरा प्रियदर्शिनी राजकीय स्नातकोत्तर महिला वाणिज्य महाविद्यालय हल्द्वानी में आज दिनांक 18 अक्टूबर 2022 को एक भारत श्रेष्ठ भारत के अंतर्गत एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की अध्यक्षता महाविद्यालय की प्राचार्य प्रोफेसर शशि पुरोहित द्वारा की गई । उन्होंने छात्राओं को एक भारत श्रेष्ठ भारत की वास्तविकता से अवगत कराया साथ ही यह भी बताया कि हमारे द्वारा अपनी संस्कृति को किस प्रकार संरक्षित किया जा सकता है । क्लब की नोडल अधिकारी डॉ निर्मला लोहनी ने कहा कि हमें अपनी संस्कृति को समझना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि जब हम अपनी संस्कृति को पहचानेंगे तभी उसका संरक्षण और विकास कर पाएंगे। डॉ हेमलता धर्म सत्तू ने छात्राओं को भाषाई जानकारी दी और किस तरह हम अलग-अलग संस्कृति अलग -अलग भाषाओं को जानकर और सीखकर अपनी पहचान बना सकते हैं ,इन सभी के बारे में व्याख्यान दिया। कार्यक्रम की संयोजक डॉ ललिता जोशी ने एक भारत श्रेष्ठ भारत संपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डालते हुए यह बताया गया कि हम हमारी संस्कृति की असली पहचान हैं और अपनी संस्कृति को दूसरे राज्यों के मध्य किस प्रकार पहुंचा सकते हैं। लेफ्टिनेंट डॉ रेखा जोशी ने छात्राओं के मध्य अपने अनुभव साझा किए। और कहा कि छात्राओं को अपनी संस्कृति को समझना कितना आवश्यक है ताकि हम अपनी संस्कृति को एक अलग पहचान दिला सके और उसका अधिक से अधिक प्रचार प्रसार कर सके । आयोजक सचिव डॉ रितुराज पंत ने कहां कि आज संस्कृति किसी व्यक्ति विशेष समुदाय की पहचान के साथ साथ स्वरोजगार का भी साधन बनी है। कुमाऊनी ऐपन कला हो या विश्व विख्यात मधुबनी कला आज संस्कृति के साथ स्वरोजगार को भी बढ़ावा दे रहे हैं। अंत में महाविद्यालय की प्राचार्य द्वारा छात्राओं को अपनी संस्कृति को संरक्षित एवं संवर्धित रखने हेतु शपथ दिलाई गई। संगोष्ठी का संचालन डॉ गीता पंत ने किया इस अवसर पर डॉ फकीर सिंह सहित प्राध्यापक उपस्थिति रहे।

संस्कृति के संरक्षण एवं संवर्द्धन की दिलाई गई शपथ

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड -(Big News) प्रदेश में आगामी दिनों में मौसम बदलने की संभावना, इन जिलों में वर्षा का पूर्वानुमान
Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments