उत्तराखंड:कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश रचने वाले 4 आरोपियों को किया पुलिस ने गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें

मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश रचने वाले मास्टरमाइंड सहित चार आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। आरोपी हीरा सिंह ने मंत्री की हत्या कराने के लिए 20 लाख की सुपारी दी थी, जिसमें से हीरा सिंह ने पांच लाख सत्तर हजार रुपए एडवांस भी दिए थे। आरोपियों से पुलिस ने दो लाख सत्तर हजार रुपए बरामद किए हैं। आरोपियों को कोर्ट में पेश करने की करवाई की गई।

कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या के लिए दी गई सुपारी की रकम से दो लाख सत्तर हजार और एक कार भी बरामद हुई है। मामले में सीतारगंज कोतवाली पुलिस को भाजपा कार्यकर्ता उमा शंकर द्विवेदी ने तहरीर देकर बताया था कि सितारगंज निवासी हीरा सिंह ने अपने साथी के साथ मिलकर जेल में ही कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या करने की योजना बनाई है।मामले में कोतवाली पुलिस ने अभियोग पंजीकृत कर कई टीमों का गठन किया। जांच के दौरान टीम को कई अहम सुराग हाथ लगे, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी हीरा सिंह, सतनाम सिंह उर्फ सत्ता, हरभजन सिंह और मो. अजीज उर्फ गुड्डू को गिरफ्तार किया। आरोपी अजीज उर्फ गुड्डू के पास से सुपारी की रकम से 2.70 लाख रुपए बरामद किए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर: वनाग्नि सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न,वनाग्नि काल 2023 की चुनौतियों को लेकर हुई आवश्यक चर्चा

कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश रचने वाले मास्टरमाइंड हीरा सिंह ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसे शक था कि उसके मिट्टी का कारोबार और गेहूं चोरी के मामले में उसे जेल भिजवाने के पीछे सौरभ बहुगुणा का हाथ है। जिसके बाद उसने ठान ली थी कि वो कैबिनेट मंत्री सौरभ बहुगुणा को नुकसान पहुंचाकर ही दम लेगा। जेल में रहने के दौरान उसकी मुलाकात एनडीपीएस एक्ट में बंद सतनाम सिंह उर्फ सत्ता से हुई। यहां दोनों ने मिलकर सौरभ बहुगुणा की हत्या की साजिश को रचा।अपनी जमानत के बाद जेल से बाहर आया मास्टरमाइंड हीरा सिंह अपने प्लॉन को कामयाब करने के लिए बदमाश हरभजन और अजीज उर्फ गुड्डू से मिला। उसने इन दोनों को सौरभ बहुगुणा की हत्या के लिए 20 लाख की सुपारी दी थी। 20 लाख में से 5 लाख 70 हजार की रकम बदमाशों को एडवांस दी गई थी जिसमें से हीरा सिंह ने चार लाख रुपए ब्याज पर लिए थे। मास्टरमाइंड हीरा सिंह 13 अप्रैल को सरकारी खेत से गेहूं चोरी के मामले में जेल गया था। जहां पहले से एनडीपीएस एक्ट में जेल में बंद सतनाम सिंह से उसकी मुलाकात हुई। सतनाम 21 अक्टूबर से जेल में बंद था। सूत्रों के मुताबिक, दोनों आरोपी एक ही बैरक में रह रहे थे। जहां पर हीरा सिंह ने सतनाम के साथ मिल कर हत्या की साजिश रची।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें 👉  बागेश्वर में तहसील दिवस का आयोजन,17 समस्यायें हुई पंजीकृत
Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments