बागेश्वर:उत्तरायणी मेले को भव्य रूप दिया जायेगा-अनुराधा पाल DM बागेश्वर,मेला क्षेत्र का भी किया स्थलीय निरीक्षण दिए ये निर्देश

ख़बर शेयर करें

बागेश्वर

जिलाधिकारी/मेला संरक्षक अनुराधा पाल ने कहा कि उत्तरायणी मेले को भव्य रूप दिया जायेगा। इस हेतु उन्होंने बुधवार को मेलाध्यक्ष सुरेश खेतवाल, मेला अधिकारी हरगिरी व अन्य अधिकारियों के साथ मेला क्षेत्र सरयू बगड़, घाटों, नुमाइसखेत का स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा कि पूस का माह चल रहा है ठंड बहुत है इसलिए सांस्कृतिक पूरा पंडाल वाटर पु्रफ बनाया जाय। उन्होंने सांस्कृतिक पंडाल, विकास प्रर्दशनी, दुकानों का ले आउट प्लान देखा व चर्चा की। उन्होंने बागनाथ मंदिर घाट के सामने नदी पार दीवारों की सफाई करने के साथ ही सफेदी कराने के निर्देश दिये व घाटों का भी सफाई करने के साथ ही सौन्दर्यकरण करने को कहा। साथ ही सरयू-गोमती पर अस्थाई पुलों का निर्माण भी शीघ्रता से कराने के निर्देश अधिशासी अधिकारी को निरीक्षण के दौरान दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि सरयू झूला पुल 100 वर्ष से अधिक का हो चुका है इसलिए मेला दौरान झूला पुल में आवागमन पूर्ण तरह प्रतिबंधित रहेगा।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड – (Big News) कुमाऊं में यहां 2 स्कूलों में 42 बच्चे बीमार

निरीक्षण उपरांत मेला संरक्षण श्रीमती पाल ने नगरपालिका में बैठक लेते हुए कहा कि उत्तरायणी मेले को भव्य रूप दिया जायेगा। मेले में कुछ नया किया जाना है तो उसका प्रस्ताव बनाये, प्रशासन द्वारा पूर्ण सहयोग किया जायेगा। उन्होंने मेला समिति की बैठक लेते हुए कहा कि सभी समितियॉ अपनी-अपनी तैयारियॉ करना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा इस बार सरयू घाट पर सायं भव्य आरती के साथ ही दीपोत्सव का आयोजन किया जायेगा, उसके उपरांत लेजर शो भी आयोजित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मेला शुभारम्भ दिवस 14 जनवरी को भव्य, सुन्दर झॉकी का आयोजन होगा। उन्होंने उत्तरायणी मेले को सफल रूप से संचालित करने हेतु सभी से सहभागिता की अपील की।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः (Big news)- यहां खेलते वक्त नदी में डूबा भाई, बचाने नदी में उतरा बड़ा भाई भी डूबा

नगरपालिका अध्यक्ष/मेलाध्यक्ष सुरेश खेतवाल ने कहा कि इस वर्ष उत्तरायणी मेला 14 से 24 जनवरी तक 10 दिनों का होगा, इसके सफल संचालन हेतु समितियों का गठन किया जा चुका है। सभी समितियॉ आपस में समन्वय करते हुए कार्यों को अंजाम दें। उन्होंने बताया कि 14 जनवरी को प्रात: 11:00 बजे से तहसील परिसर बागेश्वर से नुमाईशखेत तक सांस्कृतिक झॉकी निकाली जायेगी, तथा 02:00 बजे मुख्य अतिथि द्वारा मेले का विधिवत शुभारम्भ किया जायेगा। इस ऐतिहासिक, पौराणिक, धार्मिक एवं व्यापारिक मेले को सुव्यवस्थित संचालन एवं भव्यता प्रदान करने हेतु उन्होंने सभी सदस्यों, गणमान्यों से सुझाव भी लिये, उन्होंने कहा कि प्राप्त सुझावों को जोड़ने का प्रयास किया जायेगा। उन्होंने कहा कि मेले में सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता रखी जायेगी। उन्होंने सभी जनता से सहभागिता की अपील की।

यह भी पढ़ें 👉  BIG BREAKING NEWS- अब कक्षा 2 तक छात्रों के लिए सिर्फ दो किताबें
 

उप जिलाधिकारी/मेलाधिकारी हरगिरी ने मेले के सफल संचालन हेतु सभी से सहयोग की अपील की उन्होंने कहा कि मेले में किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। असमाजिक तत्वों से सख्ती से निबटा जायेगा। बैठक में नरेन्द्र सिंह खेतवाल, दलीप खेतवाल, जयंत भाकुनी, भुवन काण्डपाल, किशन सिंह मलड़ा, रणजीत बोरा, इन्द्र सिंह परिहार सहित अनेक संभ्रात नागरिकों ने अपने सुझाव दिये।

बैठक में सभासद प्रेम सिंह हरड़िया, नीमा दफौटी, नीमा देवी, कैलाश राम, मनोज कुमार, अधि0अभि0 लोनिवि राजकुमार, सिंचाई योगेश काण्डपाल, सीओ एस.एस. राणा, मुख्य शिक्षा अधिकारी जीएस सौन, अधि0अधि0 नगरपालिका सतीश कुमार, जिला कार्यक्रम अधिकारी अनुलेखा बिष्ट, भूमि संरक्षण अधिकारी गीतांजलि बंगारी, समाज कल्याण अधिकारी हेम तिवारी, तहसीलदार दीपिका आर्या सहित अनेक अधिकारी, गणमान्य मौजूद थे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad Ad Ad Ad
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments